हिन्दी साहित्य को सम्मानित करने की कोशिश में एक छोटा सा प्रयास, हिन्दी की श्रेठ कविताओं, ग़ज़लों, कहानियों एवं अन्य लेखों को एक स्थान पर संकलित करने की छोटी सी कोशिश...

Rambriksh Benipuri - Neev Ki Eent | रामवृक्ष बेनीपुरी - नींव की ईंट | Essay

वह जो चमकीली, सुंदर, सुघड़ इमारत आप देख रहे हैं; वह किसपर टिकी है ? इसके कंगूरों (शिखर) को आप देखा करते हैं, क्या आपने कभी इसकी नींव की ओर ध्यान दिया है?

दुनिया चकमक देखती है, ऊपर का आवरण देखती है, आवरण के नीचे जो ठोस सत्य है, उसपर कितने लोगों का ध्यान जाता है ?

ठोस 'सत्य' सदा  'शिवम्' होता ही है, किंतु वह हमेशा 'सुंदरम्' भी हो यह आवश्यक नहीं है।

सत्य कठोर होता है, कठोरता और भद्दापन साथ-साथ जन्मा करते हैं, जिया करते हैं।

Saadat Hasan Manto - Thanda Gosht | सआदत हसन मंटो - ठंडा गोश्त | Story

ईश्वरसिंह ज्यों ही होटल के कमरे में दांखिला हुआ, कुलवन्त कौर पलंग पर से उठी। अपनी तेज-तेज आँखों से उसकी तरफ घूरकर देखा और दरवाजे की चिटखनी बन्द कर दी। रात के बारह बज चुके थे। शहर का वातावरण एक अजीब रहस्यमयी खामोशी में गर्क था।

कुलवन्त कौर पलंग पर आलथी-पालथी मारकर बैठ गयी। ईशरसिंह, जो शायद अपने समस्यापूर्ण विचारों के उलझे हुए धागे खोल रहा था, हाथ में किरपान लेकर उस कोने में खड़ा था। कुछ क्षण इसी तरह खामोशी में बीत गये। कुलवन्त कौर को थोड़ी देर के बाद अपना आसन पसन्द न आया और दोनों टाँगें पलंग के नीचे लटकाकर उन्हें हिलाने लगी। ईशरसिंह फिर भी कुछ न बोला।

Gulzar - Badi Takleef Hoti Hai | गुलज़ार - बड़ी तकलीफ़ होती है | Ghazal

गुलज़ार की ग़ज़ल 'बड़ी तकलीफ़ होती है' हिंदी लिपि में 


मचल के जब भी आँखों से छलक जाते हैं दो आँसू
सुना है आबशारों को बड़ी तकलीफ़ होती है

खुदारा अब तो बुझ जाने दो इस जलती हुई लौ को
चरागों से मज़ारों को बड़ी तकलीफ़ होती है

Sudarshan - Sach Ka Sauda | सुदर्शन - सच का सौदा | Story


सुदर्शन जी की यह कहानी एक आम व्यक्ति के  सपने और सच का साथ देने की कहानी है।  लेकिन सच का साथ देना हमेशा आसान नहीं होता।  यह कहानी वैसे तो पुरानी है पर हर समय  और कालखण्ड के लिए हमेशा प्रेरणादायक रहेगी।  

Gulzar - Poore Ka Poora Aakash Ghuma Kar Baazi Dekhi Maine | गुलज़ार - पूरे का पूरा आकाश घुमा कर बाज़ी देखी मैने | Poem

गुलज़ार साब की यह कविता मुझे बेहद पसंद है, इसमें जिस तरह से गुलज़ार साब और भगवान के बीच जिसे वो ‘बड़े मियां’ कहते है, उनके साथ की शतरंज की बाज़ी का चित्रण है वह बहुत ही रोमांचक है। कविता के साथ साथ यह हम मनुष्यों के संघर्ष की भी कहानी है कि कैसे हमने आग की खोज की फिर उसके बाद आज चाँद तक भी पहुंच गए है।  अपने विचार इस कविता के बारे में नीचे कमेंट बॉक्स में अवश्य शेयर करे।  धन्यवाद ! 

Premchand - Ghar Jamai | प्रेमचंद - घर जमाई | Story

Ghar Jamai Story by Premchand

हरिधन जेठ की दुपहरी में ऊख में पानी देकर आया और बाहर बैठा रहा। घर में से धुआँ उठता नजर आता था। छन-छन की आवाज भी आ रही थी। उसके दोनों साले उसके बाद आये और घर में चले गए। दोनों सालों के लड़के भी आये और उसी तरह अंदर दाखिल हो गये; पर हरिधन अंदर न जा सका। इधर एक महीने से उसके साथ यहाँ जो बर्ताव हो रहा था और विशेषकर कल उसे जैसी फटकार सुननी पड़ी थी, वह उसके पाँव में बेड़ियाँ-सी डाले हुए था। कल उसकी सास ही ने तो कहा, था, मेरा जी तुमसे भर गया, मैं तुम्हारी जिंदगी-भर का ठीका लिये बैठी हूँ क्या ? और सबसे बढ़कर अपनी स्त्री की निष्ठुरता ने उसके हृदय के टुकड़े-टुकड़े कर दिये थे। वह बैठी यह फटकार सुनती रही; पर एक बार तो उसके मुँह से न निकला, अम्माँ, तुम क्यों इनका अपमान कर रही हो ! बैठी गट-गट सुनती रही। शायद मेरी दुर्गति पर खुश हो रही थी। इस घर में वह कैसे जाय ? क्या फिर वही गालियाँ खाने, वही फटकार सुनने के लिए ? और आज इस घर में जीवन के दस साल गुजर जाने पर यह हाल हो रहा है। मैं किसी से कम काम करता हूँ ? दोनों साले मीठी नींद सो रहते हैं और मैं बैलों को सानी-पानी देता हूँ; छाँटी काटता हूँ। वहाँ सब लोग पल-पल पर चिलम पीते हैं, मैं आँखें बन्द किये अपने काम में लगा रहता हूँ। संध्या समय घरवाले गाने-बजाने चले जाते हैं, मैं घड़ी रात तक गाय-भैंसे दुहता रहता हूँ। उसका यह पुरस्कार मिल रहा है कि कोई खाने को भी नहीं पूछता। उल्टे गालियाँ मिलती हैं।

Shakeel Badayuni - Badle Badle Mere Sarkaar Nazar Aate Hai | शकील बदायूँनी - बदले बदले मेरे सरकर नज़र आते हैं | Ghazal

शकील बदायूँनी की बदले बदले मेरे सरकार नज़र आते हैं 

बदले बदले मेरे सरकार नज़र आते हैं ।
घर की बरबादी के आसार नज़र आते हैं ।

Popular Posts

Rambriksh Benipuri - Neev Ki Eent | रामवृक्ष बेनीपुरी - नींव की ईंट | Essay

Rambriksh Benipuri - Neev Ki Eent | रामवृक्ष बेनीपुरी - नींव की ईंट | Essay

वह जो चमकीली, सुंदर, सुघड़ इमारत आप देख रहे हैं; वह किसपर टिकी है ? इसके कंगूरों (शिखर) को आप देखा करते हैं, क्या आपने कभी इसकी नींव की...
Saadat Hasan Manto - Thanda Gosht | सआदत हसन मंटो - ठंडा गोश्त | Story

Saadat Hasan Manto - Thanda Gosht | सआदत हसन मंटो - ठंडा गोश्त | Story

ईश्वरसिंह ज्यों ही होटल के कमरे में दांखिला हुआ, कुलवन्त कौर पलंग पर से उठी। अपनी तेज-तेज आँखों से उसकी तरफ घूरकर देखा और दरवाजे की चिटख...
Gulzar - Poore Ka Poora Aakash Ghuma Kar Baazi Dekhi Maine | गुलज़ार - पूरे का पूरा आकाश घुमा कर बाज़ी देखी मैने | Poem

Gulzar - Poore Ka Poora Aakash Ghuma Kar Baazi Dekhi Maine | गुलज़ार - पूरे का पूरा आकाश घुमा कर बाज़ी देखी मैने | Poem

गुलज़ार साब की यह कविता मुझे बेहद पसंद है, इसमें जिस तरह से गुलज़ार साब और भगवान के बीच जिसे वो ‘बड़े मियां’ कहते है, उनके साथ की शतरंज की ...
Shakeel Badayuni - Badle Badle Mere Sarkaar Nazar Aate Hai | शकील बदायूँनी - बदले बदले मेरे सरकर नज़र आते हैं | Ghazal

Shakeel Badayuni - Badle Badle Mere Sarkaar Nazar Aate Hai | शकील बदायूँनी - बदले बदले मेरे सरकर नज़र आते हैं | Ghazal

शकील  बदायूँनी  की बदले बदले मेरे सरका र नज़र आते हैं  बदले बदले मेरे सरकार नज़र आते हैं । घर की बरबादी के आसार नज़र आते हैं ।